संत कबीर वाणी:ज्ञान रुपी हाथी की सवारी कीजिए, भौंकने पर ध्यान न दीजिये


हस्ती चढ़िए ज्ञान की, सहज दुलीचा डार
श्वान रूप संसार है, भूंकन दे झकमार

संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं की ज्ञान रूपी हाथी पर सहज भाव से दुलीचा डालकर उस पर सवारी कीजिए और संसार के दुष्ट पुरुषों को कुत्ते की तरह भोंकने दीजिये, उनकी पवाह मत करिये.

कहते को कहि जान दे, गुरु की सीख तू लेय
साकट जन और स्वान को, फेरि जवाब न देय

संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि दुनिया के लोग आलोचना और निंदा करते हैं और उनकी परवाह नहीं करना चाहिऐ. अपने गुरु की शिक्षा लेकर उस पर चलना चाहिऐ और कुछ दुष्ट लोग अगर निंदा करते हैं तो उनके भोंकने पर जवाब नहीं देना चाहिऐ.

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • समीर लाल  On 15/02/2008 at 17:21

    सत्य वचन॒म….ज्ञानवर्धम!!!!!

  • sudarshansingh  On 16/02/2008 at 02:22

    kutta bhoonke hazar hathi chale bazar

  • PARTH  On 11/11/2008 at 05:02

    VERY GOOD

  • vikash  On 09/04/2009 at 09:33

    bhartia sanskriti ko banaye rakhne k lie ye sab ka palan karna jaruri nhai

  • harikishunrajbhar  On 19/05/2009 at 16:11

    yah sabhi ke liye achchha.
    very good

  • dhirendra singh  On 18/11/2009 at 15:56

    I think this is good for everyone, so we should learn by this quote that how we should behave with anybody

  • Ash  On 18/01/2011 at 15:06

    i will try to remember and learn it, seems very useful for practical application

  • sanjeev kumar  On 17/05/2011 at 23:46

    very nice santence

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: