हंसी के खजाने की तलाश-हिंदी शायरी (hansi ka khazana-hindi shayri)


अपने पर ही यूं हंस लेता हूं।
कोई मेरी इस हंसी से
अपना दर्द मिटा ले
कुछ लम्हें इसलिये उधार देता हूं।
मसखरा समझ ले जमाना तो क्या
अपनी ही मसखरी में
अपनी जिंदगी जी लेता हूं।
रोती सूरतें लिये लोग
खुश दिखने की कोशिश में
जिंदगी गुजार देते हैं
फिर भी किसी से हंसी
उधार नहीं लेते हैं
अपने घमंड में जी रहे लोग
दूसरे के दर्द पर सभी को हंसना आता है
उनकी हालतों पर रोने के लिये
मेरे पास भी दर्द कहां रह जाता है
जमाने के पास कहां है हंसी का खजाना
इसलिये अपनी अंदर ही
उसकी तलाश कर लेता हूं।

…………………………….

दीपक भारतदीप की शब्दयोग पत्रिका पर लिख गया यह पाठ मौलिक एवं अप्रकाशित है। इसके कहीं अन्य प्रकाश की अनुमति नहीं है।
कवि एंव संपादक-दीपक भारतदीप
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका
लेखक संपादक-दीपक भारतदीप

About these ads
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • Tosha  On 06/08/2009 at 08:43

    बहुत ही प्यारा लिखा है आप ने!!

  • murari lal pareek  On 09/10/2009 at 20:05

    bahut sundar baat kahdi janaab

  • yadvendra singh  On 26/10/2009 at 13:14

    i have a lot of proud for you because you have care(worry)of forien indians

  • yadvendra singh  On 26/10/2009 at 13:18

    Apke sher-o-shayri read karne ke paschat meri ankhon men ansu bhar gaye.(please write it forever anever)

  • BHUPENDRA SAGRE  On 31/12/2009 at 14:19

    AAPNE DIL KI BAT KI HAI BAHUT HI KHUBSURAT LAMHE LIKHE HAI JO JIVAN ME GUJAR GAYE USE KE BARE ME LIKHA HAI

  • shivdutt  On 20/01/2010 at 14:00

    REALLY AMAZING……..

  • sahil; raja  On 15/03/2012 at 20:07

    Veery nice

  • Roop Narayan  On 23/11/2012 at 15:48

    nice

  • Ganesh Mahato  On 21/12/2012 at 22:08

    very very nice boss

  • Sandeep  On 02/02/2013 at 13:40

    बहुत बढ़िया |
    शुभकामनाए |

  • anil kalbandhe  On 19/05/2013 at 22:23

    very nice

  • abhishek jain  On 19/07/2013 at 18:41

    hahaha very fanney

  • JIYA LAL KASHYAP  On 05/09/2013 at 11:42

    lajawab likha hai

  • thakur prince  On 10/01/2014 at 21:45

    u r very gud write bt please very funny poem best of luck

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 192 other followers

%d bloggers like this: