Tag Archives: सत्साहित्य

समंदर जैसे गहरे लोग -हिंदी कविता


उनको समंदर की तरह

गहरा कहा जाता है,

इसलिये उनके घर से

हर कोई लौट जाता है प्यासा,

पानी उनकी तिजोरी में बंद है

खारा हो गया है,

मगर उनके मन में अभी तक बची पिपासा।

कहें दीपक बापू

 आम इंसान की भलाई की

जो शपथ उठा लेता है

हीरों का ताज पहनने के लिये वह नहीं  तरसता,

सिंहासन के लिये उस पर लोभ नहीं बरसता,

न नारे लगाता है,

न वादे बजाता है,

उसके अंतर्मन में बहती पवित्र जल की धारा

ज़माने का भला किये बिना

रहता है वह प्यासा।

——————————-

लेखक एवं कवि-दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप,

ग्वालियर मध्यप्रदेश

कवि, लेखक और संपादक-दीपक “भारतदीप”,ग्वालियर 
poet, writer and editor-Deepak “BharatDeep”,Gwalior
Advertisements