दिल के मचे तूफानों का कौन पता लगा सकता ह-हिन्दी शायरी



मोहब्बत में साथ चलते हुए
सफर हो जाते आसान
नहीं होता पांव में पड़े
छालों के दर्द का भान
पर समय भी होता है बलवान
दिल के मचे तूफानों का
कौन पता लगा सकता है
जो वहां रखी हमदर्द की तस्वीर भी
उड़ा ले जाते हैं
खाली पड़ी जगह पर जवाब नहीं होते
जो सवालों को दिये जायें
वहां रह जाते हैं बस जख्मों के निशान
……………………………
जब तक प्यार नहीं था
उनसे हम अनजान थे
जो किया तो जाना
वह कई दर्द साथ लेकर आये
जो अब हमारी बने पहचान थे
…………………………..
दीपक भारतदीप

यह पाठ/कविता इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की ई-पत्रिका’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
लेखक संपादक-दीपक भारतदीप

Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • sameerlal  On 22/08/2008 at 18:27

    जो किया तो जाना
    वह कई दर्द साथ लेकर आये

    -बहुत खूब!!

  • SURESH SHARMA  On 15/11/2009 at 21:19

    मोहब्बत में साथ चलते हुए
    सफर हो जाते आसान
    नहीं होता पांव में पड़े
    छालों के दर्द का भान
    पर समय भी होता है बलवान
    दिल के मचे तूफानों का
    कौन पता लगा सकता है
    जो वहां रखी हमदर्द की तस्वीर भी
    उड़ा ले जाते हैं
    खाली पड़ी जगह पर जवाब नहीं होते
    जो सवालों को दिये जायें
    वहां रह जाते हैं बस जख्मों के निशान
    ……………………………
    जब तक प्यार नहीं था
    उनसे हम अनजान थे
    जो किया तो जाना
    वह कई दर्द साथ लेकर आये
    जो अब हमारी बने पहचान थे
    SURESH SHARMA 09001665969 ALWAR

  • SURESH SHARMA  On 15/11/2009 at 21:24

    TUM YAD KRO OR HM NA AAE AESI KOE BAT HNI.
    DIL ME ARMAN HO OR BYAN NA KR PAO AE KOE RAT NHI..
    SURESH SHARMA(09001665969) ALWAR

  • rizon khan  On 30/11/2009 at 16:08

    its very nice .

  • sandeep kumar  On 30/11/2009 at 16:55

    मोहब्बत में साथ चलते हुए
    सफर हो जाते आसान
    नहीं होता पांव में पड़े
    छालों के दर्द का भान
    पर समय भी होता है बलवान
    दिल के मचे तूफानों का
    कौन पता लगा सकता है
    जो वहां रखी हमदर्द की तस्वीर भी
    उड़ा ले जाते हैं
    खाली पड़ी जगह पर जवाब नहीं होते
    जो सवालों को दिये जायें
    वहां रह जाते हैं बस जख्मों के निशान

  • VIKASH KUMAR  On 01/12/2009 at 03:36

    IRAADEIN
    JO MUSKILO SE DARTEEIN HAIN WO JALILEIN KHOR HOTEIN HAIN
    BADAL DE WAQKT KI TAKDIR WE KHUDDAR HOTEIN HAIN
    HAJAARO DUBTEIN HAIN UN KUDDAWO K BAROSEIN
    JO KHUD CAPPU CALATEIN HAIN WO AKSAR PAAR HOTEIN HAIN
    2# GARIBI
    GARIBI HAR KUSHI AINEIN KO CUUR KARTI HAIN
    YE WO SAI HAIN JO HAR KISI KO BHIKH MANGANEIN PAR MAJBUR KARTI HAIN
    GARIB AADMI KHUD GIR JAATA HAIN APNI NIGAAHO SE
    JAB YE KISI K SAAMNE HAATH FAILAANEIN PAR MAJBUR KARTI HAIN.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: