ख्याल तो हैं जलचर की तरह-हिंदी शायरी



मन का समंदर है गहरा
जहां ख्याल तैरते हैं जलचर की तरह
कुछ मछलियां सुंदर लगती हैं
कुछ लगते हैं खौफनाक मगरमच्छ की तरह

देखने का अपना अपना नजरिया है
मोहब्बत हर शय को खूबसूरत बना देती है
नफरत से फूल भी चुभते हैं कांटे की तरह
इस चमन में बहती है कभी ठंडी तो कभी गर्म हवा
मन जैसा चाहे नाचे या चीखे
नहीं उसके दर्द की दवा
न एक जगह ठहरते
न एक जैसा रूप धरते
ख्याल तो हैं बहते जलचर की तरह
…………………………..

दीपक भारतदीप

othrer web pege

http://dpkraj.blogspot.com
http://anantraj.blogspot.com
http://deepkraj.blogspot.com
http://terahdeep.blogspot.com
http://rajlekh.blogspot.com
http://zeedipak.blogspot.com

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • Advocate Rashmi saurana  On 29/06/2008 at 16:53

    bhut badiya.

  • mehek  On 29/06/2008 at 16:56

    sach hai kuch khayal sundar to kuch magarmach ki tarah hote hai,jisse hum bepanah pyar karte hai,kisi khayal se usse dukh bhi dete ha,inka koi roop nahi,bahut sundar kavita,ya baut sundar khayal,bahut badhai.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: