इंसान कभी चिराग नहीं हो सकते-हिन्दी शायरी


यूं तो चमकता चाँद देखकर
अपना दिल बहला लेते
पर जब आकाश में नहीं दिखता वह
छोटा चिराग जला लेते हैं
जिन्दगी में अपने
रौशनी के लिए क्यों
किसी एक के आसरे रहें
इसलिए कई इंतजाम कर लेते हैं
इंसानों का भी क्या भरोसा
उजियाले में करते हैं
हमेशा साथ निभाने का
अँधेरा ही होते मुहँ फेर लेते हैं
—————————————
मांगी थी उनसे कुछ पल के लिए रौशनी उधार
उन्होंने अपना चिराग ही बुझा दिया
हमारा रौशनी में रहना
उनको कबूल नहीं था
अँधेरे को अपने पास इसलिए बुला लिया
इंसान कभी चिराग नहीं हो सकते यह बता दिया
————————
दीपक भारतदीप

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • जीवन की सच्चाई से रुबरू कराती आपकी कविता पसन्द आई…..लिखते रहें

  • Rachna Gupta  On 25/07/2008 at 03:51

    Jab main ghar se nikla
    mere kuch arman the
    ek taraf haddiyon ke dher
    ek taraf shamshan the
    jab mera pair ek haddi se takraya
    to uske ye byan the
    a musafir dekhkar chal
    hum bhi kabhi ensan the

  • Sahil  On 26/08/2008 at 13:30

    Tute dil ka hain magar
    ye sachha aehasas hain;
    jisane loota hain muje
    wo mera apana khas hain,
    din tarikhon ke siva jootha
    sab etihas hain,
    booj payegi kis tarah
    ye to sadiyon ki pyas hain

  • GANESH SINGH CHOUHAN  On 15/10/2008 at 09:02

    acha ha acha ha…………………………. lagia rho

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: