भ्रम का सिंहासन-व्यंग्य कविता


एक सपना लेकर
सभी लोग आते हैं सामने
दूर कहीं दिखाते हैं सोने-चांदी से बना सिंहासन

कहते हैं
‘तुम उस पर बैठ सकते हो
और कर सकते हो दुनियां पर शासन

उठाकर देखता हूं दृष्टि
दिखती है सुनसार सारी सृष्टि
न कहीं सिंहासन दिखता है
न शासन होने के आसार
कहने वाले का कहना ही है व्यापार
वह दिखाते हैं एक सपना
‘तुम हमारी बात मान लो
हमार उद्देश्य पूरा करने का ठान लो
देखो वह जगह जहां हम तुम्हें बिठायेंगे
वह बना है सोने चांदी का सिंहासन’

उनको देता हूं अपने पसीने का दान
उनके दिखाये भ्रमों का नहीं
रहने देता अपने मन में निशान
मतलब निकल जाने के बाद
वह मुझसे नजरें फेरें
मैं पहले ही पीठ दिखा देता हूं
मुझे पता है
अब नहीं दिखाई देगा भ्रम का सिंहासन
जिस पर बैठा हूं वही रहेगा मेरा आसन

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • mehhekk  On 03/06/2008 at 17:19

    उनको देता हूं अपने पसीने का दान
    उनके दिखाये भ्रमों का नहीं
    रहने देता अपने मन में निशान
    मतलब निकल जाने के बाद
    वह मुझसे नजरें फेरें
    मैं पहले ही पीठ दिखा देता हूं
    मुझे पता है
    अब नहीं दिखाई देगा भ्रम का सिंहासन
    जिस पर बैठा हूं वही रहेगा मेरा आसन

    wah kya baat hai,sahi,bhram ka singhasan nakli hai,hamara pakka nishchay hi hamara aasan hai jo kabhi nai dagmagata,bahut khubsurat

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: