सभी की सोच मतलब के घर में बंद है-हिंदी शायरी



कोई लिखकर कहे या
अपनी जुबां से बोले
कोई ऐसे शब्द कान में अमृत घोले
मन में छा जाये प्रसन्नता की सरिता
इसी चाहत में उम्र गुजार दी

पर प्यासे रहे हमेशा
कोई नहीं बोल पाया
नहीं लिख पाया कुछ मीठे शब्द
हमने बोले कुछ प्यार के
तो लिखे भी बहुत
पर जमाना ही है लाचार और बेबस
जूझता है अपने दर्द और गमों से
कोई नहीं समझता
प्यार के शब्दों की असलियत
सभी ढूंढते हैं खुशी उधार की
………………………..
मैं कहां तलाश करूं प्यार से
सराबोर शब्दों की
सभी दरवाजे बंद हैं

अपने दिल के दर्द से टूटे लोग
ढूंढ रहे हैं खुशियां
रौशनी के पीछे अंधेरे में
अपने शब्दों से जला सकें
किसी के दिल में उम्मीद का चिराग
कोई ख्याल में भी नहीं लाता
सभी की सोच
अपने मतलब के घर में बंद है
………………………..

Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • alpana  On 31/05/2008 at 16:10

    पर प्यासे रहे हमेशा
    कोई नहीं बोल पाया
    नहीं लिख पाया कुछ मीठे शब्द””’
    achchee prastuti..

  • mehek  On 31/05/2008 at 16:11

    अपने दिल के दर्द से टूटे लोग
    ढूंढ रहे हैं खुशियां
    रौशनी के पीछे अंधेरे में
    अपने शब्दों से जला सकें
    किसी के दिल में उम्मीद का चिराग
    कोई ख्याल में भी नहीं लाता
    सभी की सोच
    अपने मतलब के घर में बंद है
    bahut hi gehri baat magar sahi bhi,bahut khub badhai.

  • balkishan  On 31/05/2008 at 17:52

    “अपने दिल के दर्द से टूटे लोग
    ढूंढ रहे हैं खुशियां”

    एक-एक पंक्तियाँ सच मे डूबी हुई.
    बधाई.

  • gopaldas  On 01/06/2008 at 07:22

    wah..!!
    kya baat hai..
    dil k jazbaato ko udhel diya gaya hai shabdon me..

  • gopaldas  On 01/06/2008 at 07:54

    zindagi me hassne k lamhe sabhi ko bahut hi kam milte hain,
    hum bhaagte hain khushiyon k peechhe aur waha bhi gam milte hain..

    to gam ko hi kyu na dost bana liya jaye?
    jo sath to nahi chhodti?

    kyu hai na?

  • gopaldas  On 30/06/2008 at 15:07

    WAH KYA BAAT HAI.. BADHAAYI..

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: