रहीम के दोहे:सच्चा मित्र दही की तरह निभाता है


मथत मथत माखन रही, दही मही बिलगाव
रहिमन सोई मीत हैं, भीर परे ठहराय

कविवर रहीम कहते हैं कि जब दही को लगातार माथा जाता है तो उसमें से मक्खन अलग हो जाता है और दही मट्ठे में विलीन होकर मक्खन को अपने ऊपर आश्रय देती है, इसी प्रकार सच्चा मित्र वही होता है जो विपत्ति आने पर भी साथ नहीं छोड़ता।

भावार्थ-सच्चा दोस्त वक्त पर ही परखा जाता है जिस प्रकार दही मट्ठे में परिवर्तित होकर मक्खन को अपने ऊपर आश्रय देती है वैसे ही सच्चा मित्र विपति में अपने मित्र को बचाने के लिए अपना अस्तित्व समाप्त कर देता है।

मनिसिज माली के उपज, कहि रहीम नहिं जाय
फल श्यामा के उर लगे, फूल श्याम उर आय

कविवर रहीम कहते हैं कि कामदेव रुपी माली की पैदावार का शब्दों में बखान नहीं किया जा सकता। राधा के हृदय पर जो फल लगे हुए हैं उसके फूल श्याम के हृदय पर ही उगे हैं।

रहिमन गली है सांकरी, दूजो न ठहराहिं
आपु अहैं तो हरि नहीं, हरि आपुन नाहि

संत शिरोमणि रहीम कहते हैं की प्रेम की गली बहुत पतली होती है उसमें दूसरा व्यक्ति नहीं ठहर सकता, यदि मन में अहंकार है तो भगवान का निवास नहीं होगा और यदि दृदय में ईश्वर का वास है तो अहंकार का अस्तित्व नहीं होगा।

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • Sangeet Premi  On 30/11/2010 at 12:49

    sachha mitra jivan ko aasan banata hai.

  • amar b nayak  On 11/09/2011 at 12:11

    friend means forever relations in everywhere, never die, YAA HINDI ME DOST= D=DOOR RAHKAR BHI JO PASS HO,
    O= ORO SE KHAS HO,
    S= SABSE PYARA JISKA EHSAAS HO,
    T= TAQDEER SE JYADA JIS PAR VISHWAS HO,=DOST KAHLATA HAI,”DOSTI RISHTA NAHI HAI DHARAM HAI EMAAN HAI, YAAR KI YAARI KHUDA HAI DUSHMANI SHAITAN HAI-NAYAK

  • amar b nayak  On 11/09/2011 at 12:16

    “KHAREED LETE UNHE JINDGI BECHKAR,YADI KHAREED SAKTE, PAR KUCHH LOG/DOST-“”KIMAT SE NAHI, KISMAT SE” MILA KARTE HAI- DOSTI EK ANMOL TOHFA HAI JISKE BARE ME KUCHH KAHA HI NAHI JAA SAKTA HAI, HUM DOST OR DOSTI KA ABHINANDAN KARTE HAI OR EK ACHHE DOST KE LIYE HAMESHA JITE HAI MARTE HAI-“LIVE LONG FOREVER FRIENDS”- NAYAK

  • ravinder goyal bhiwadi  On 27/10/2011 at 16:15

    har ghari sochte hain bhalai teri,sun nahi sakte burai teri,haste-haste ro padti hain aankhein meri,istarah se sehte hain judai teri.

  • roxxy  On 27/12/2011 at 13:47

    true yaar frndship can’t b described in words, it’s just……. 🙂

  • cbvf  On 20/10/2012 at 14:26

    very good mera project bacha liya

  • liza  On 22/10/2012 at 19:12

    agar koi dost ho to meri dost jaisa ho.

  • mahi  On 09/11/2012 at 19:35

    its tooooooooooo good

  • Devanshu  On 04/08/2013 at 22:44

    kal chaand mera dost ki trh thaa
    vahi husn vahi noor
    aur harbar ki trh hmse
    utna hi door

  • Monalisa  On 21/10/2014 at 20:49

    A friend in need is a friend in deed.

  • Anugya  On 02/11/2014 at 14:45

    I want more dohe on friendship.So please do me a favour.

  • pagal  On 12/11/2014 at 20:44

    very nice doha

  • anshul choudhary  On 24/01/2015 at 16:36

    saccha mitra vahi hota hai jo hamy sahi rah dikhata hai

  • lakshya  On 15/05/2015 at 21:11

    i want more of my work

  • mahaaaaan  On 27/10/2015 at 15:53

    friendship cannot be die

  • Arun Suhag  On 20/11/2015 at 14:54

    dosth vahi hi h jo kam padne par mu na phere

  • muskan  On 15/06/2016 at 18:10

    lajawab bahot acche baat h

  • आप का व्यवहार ही आप का परिचय है /दोस्त

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: